सूरदास का जन्म कब और कहां हुआ था जीवन परिचय? Surdas Ka Janm Kab Hua Tha

क्या आप अंध हिंदू भक्ति कवि और गायक सूरदास जी की जीवनी के बारे में पूरी जानकारी पढ़ना चाहते हैं? (Surdas Ka Janm Kab Hua Tha) अगर आप सूरदास जी की जीवनी पढ़ना चाहते हैं तो आप सही पोस्ट को पढ़ रहे हैं।

इस पोस्ट में, सूरदास का जन्म कब और कहाँ हुआ, जीवनी परिचय?, सूरदास का जन्म किस स्थान पर हुआ?, सूरदास की मृत्यु कब और कहाँ हुई, सूरदास का क्या नाम है? सूरदास की पत्नी का नाम, सारी जानकारी इस पोस्ट में मिलने वाली है।

Surdas Ji Ka Jivan Parichay Surdas Ka Janm Kab Hua Tha
Surdas Ji Ka Jivan Parichay/Surdas Ka Janm Kab Hua Tha

Surdas Ji Ka Jivan Parichay

सूरदास जी एक अंधे हिंदू भक्ति कवि और गायक थे जिन्होंने 16 वीं शताब्दी में सबसे महान देवता श्री कृष्ण के पक्ष में लिखा था। साथ ही, सूरदास जी एक प्रसिद्ध वैष्णव थे, जिनका सभी वैष्णव परंपराओं द्वारा सम्मान और प्रशंसा की जाती है।

  • सूरदास का जन्म कब हुआ था: Surdas Ka Janm Kab Hua Tha

सूरदास भारत के सबसे प्रसिद्ध अंधे हिंदी कवियों में से एक हैं। उनका जन्म 1478 और 1483 के आसपास ग्राम सीही, फरीदाबाद, हरियाणा में हुआ था। क्योंकि उनके जन्म की सही तारीख ज्ञात नहीं है, लेकिन सबसे अधिक संभावना है कि उनका जन्म वर्ष 1483 में हुआ था।

सूरदास को हिन्दी भाषा का सबसे महान कवि माना जाता है। वह हिंदू देवता भगवान श्री कृष्ण के भक्त थे। भक्त सूरदास जी बहुत विनम्र व्यक्ति थे, और उन्होंने कभी भी अपनी कविता के बारे में डींग नहीं मारी।

  • सूरदास का जन्म कहां हुआ था?:

हरियाणा राज्य के फरीदाबाद के साही नामक ग्राम में सूरदास जी का जन्म हुआ था।

  • सूरदास की मृत्यु कब और कहाँ हुई:

सूरदास जी की मृत्यु 1579 से 1584 ई में हुई थी. क्योंकि उनके मृत्यु की सही तारीख भी ज्ञात नहीं है, लेकिन कहा जाता है कि उनका मृत्यु वर्ष 1579 और 1584 के बिच में हुआ था।


सूरदास की प्रमुख रचना का क्या नाम है?

ऐसा माना जाता है कि सूरदास ने साहित्य की कई रचनाएँ लिखीं है। सूरदास की मुख्य कृति सूर सागर है, यही वह रचना है जिसके लिए उन्हें सबसे ज्यादा जाना जाता है।

उनके प्रमुख रचना में से:

  1. सुर सागर
  2. साहित्य लहरी
  3. सूर सारावली
  4. नल-दमयन्ती
  5. ब्याहलो
  • सूरदास ने सूर सारावली और साहित्य लहरी की भी रचना कीये थे। कहा जाता है कि इसमें एक लाख श्लोक हैं, जिनमें से कई खो गए थे। इसकी वजह अस्पष्टता और समय की अनिश्चितता है।
  • सूरदास ने ध्रुव और प्रह्लाद की किंवदंतियों के साथ भगवान के 24 अवतारों का वर्णन किया है।
  • साहित्य लहरी में 118 श्लोक हैं और भक्ति पर जोर दिया गया है।
  • ऐसा भी माना जाता है कि सूरदास द्वारा लिखी गई कुछ कविताओं में देवी पार्वती को संबोधित किया गया था।

Surdas Ji Ki Parivar

सूरदास की माता का नाम :जमुनादास
सूरदास की पिता का नाम :रामदास सारस्वत
Philosophyभक्ति
Surdas Ka Janm Kab Hua Tha

सूरदास जी भक्ति आंदलन के संत थे।

भक्ति आंदोलन एक भक्त के लिए एक व्यक्तिगत भगवान और एक पारस्परिक गहरी भावनात्मक लगाव और भगवान के प्यार पर जोर देता है।

भक्त सूरदास जी भी भारतीय उपमहाद्वीप में फैले भक्ति आंदोलन का हिस्सा थे। यह आंदोलन जनता के आध्यात्मिक सशक्तिकरण का प्रतिनिधित्व कारण के साथ जनता का संगत आध्यात्मिक आंदोलन था। पहली बार 7वीं शताब्दी में दक्षिण भारत में उत्पन्न हुआ और 14वीं-17वीं शताब्दी में उत्तर भारत में फैल गया।

निष्कर्ष

उम्मीद करता हूँ इस पोस्ट ( Surdas Ka Janm Kab Hua Tha) में सूरदास का जन्म कब और कहां हुआ था जीवन परिचय?, सूरदास का जन्म कौन से स्थान में हुआ था?, सूरदास की मृत्यु कब और कहाँ हुई, सूरदास का नाम क्या है?, सूरदास की प्रमुख रचना का क्या नाम है?, सूरदास की पत्नी का नाम, सारी जानकारी इस पोस्ट में मिली है।

इन्हे भी पढ़ें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *