बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है? (पूरी जानकारी)

Bank of Baroda Ka Malik Kaun Hai बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है
बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है

नमस्कार दोस्तों, आज मैं आपको इस पोस्ट के माध्यम से Bank of Baroda के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ।

बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है, इस बैंक की स्थापना कब हुई, इसके वर्तमान सीईओ कौन हैं और बैंक का मुख्यालय कहां है – पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे।

बैंक ऑफ बड़ौदा गुजरात राज्य के स्वामित्व वाली अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग और वित्तीय सेवा कंपनी है जिसका मुख्यालय वडोदरा, गुजरात, भारत में है। इस बैंक भारत का दूसरा सबसे बड़ा पब्लिक सेक्टर बैंक है। आइये जानते हैं बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है?

बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है?

बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना 20/Jul/1908 में बड़ौदा के महाराजा, महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ III द्वारा स्थापना की गई थी, और 1969 में भारत के 13 अन्य प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों के साथ इसका राष्ट्रीयकरण किया गया था। तब से बैंक ऑफ बड़ौदा इंडिया का पब्लिक सेक्टर बैंक के रूप में परिचालित है। इसका मतलब वर्तमान में बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक भारत सरकार है और इसका नियंत्रण भारत सरकार द्वारा की जाती है।

भारत सरकार इस बैंक में बहुमत रखती है और निदेशक मंडल और वरिष्ठ प्रबंधन टीम नियुक्त करती है जो बैंक चलाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। साथ ही इस बैंक को भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा भी विनियमित किया जाता है।

Bank of Baroda:

FounderSayajirao Gaekwad III
OwnerGovernment of India
Founded20 July 1908
HeadquartersVadodara, Gujarat, India
Key peopleHasmukh Adhia
(Chairman)
Sanjiv Chadha
(MD & CEO)
Websitewww.bankofbaroda.in
बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है

सयाजीराव गायकवाड़ III:

Sayajirao Gaekwad III, a member of the Gaekwad dynasty, was the Maharaja of Baroda State in India from 1875 to 1939. He ruled the kingdom for two centuries. Considered one of the most progressive rulers of his time, Sayajirao is credited with several important social and educational reforms in Baroda.

महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ III

सयाजीराव गायकवाड़ III 1875 से 1939 तक भारत में बड़ौदा राज्य के महाराजा थे। वह गायकवाड़ राजवंश के सदस्य थे, जिसने दो शताब्दियों तक राज्य पर शासन किया। सयाजीराव को अपने समय के सबसे प्रगतिशील शासकों में से एक माना जाता है और उन्हें बड़ौदा में कई महत्वपूर्ण सामाजिक और शैक्षिक सुधारों का श्रेय दिया जाता है, जो की उनमे से बैंक ऑफ़ बड़ौदा है। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी थे।

History of Bank of Baroda:

बैंक ऑफ बड़ौदा, को आप BoB के नाम से भी जानते है, जिसकी स्थापना 1908 में महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ III द्वारा गुजरात के बड़ौदा में एक छोटे, निजी स्वामित्व वाले बैंक के रूप में की गई थी। इस बैंक की शुरुआत केवल 50,000 रुपये की पूंजी से हुई थी और बड़ौदा और मुंबई में केवल दो शाखाएं थी।

वर्षों के बाद, बैंक ने तेजी से विस्तार किया, पूरे भारत के साथ केन्या, तंजानिया, युगांडा और गुयाना जैसे अन्य देशों में भी शाखाएं खोलीं। इसके अलावा भारत के व्यापार और उद्योग के वित्तपोषण में भी बैंक शामिल हो गया।

फिर 1969 में, भारत सरकार ने वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने और मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए भारत के 13 अन्य प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों के साथ बैंक ऑफ बड़ौदा का भी राष्ट्रीयकरण किया गया। तब से, बैंक ऑफ बड़ौदा पूरी तरह से भारत सरकार के स्वामित्व और नियंत्रण में है।

FAQS – Frequently asked questions

  • बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना कब हुई?

    बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना 20 जुलाई 1908 को हुई थी।

  • बैंक ऑफ बड़ौदा का मुख्यालय कहां है?

    बैंक ऑफ बड़ौदा का मुख्यालय वडोदरा, गुजरात, भारत में स्थित है।

  • बैंक ऑफ बड़ौदा सरकारी है या प्राइवेट?

    बैंक ऑफ बड़ौदा एक राज्य के स्वामित्व वाला बैंक है, जिसका अर्थ है कि इसका मालिक भारत सरकार है और भारत सरकार द्वारा नियंत्रण की जाती है। इसका मतलब बैंक ऑफ बड़ौदा एक प्राइवेट बैंक नहीं है, यह एक सरकारी बैंक है।

  • बॉब के एमडी और सीईओ कौन है?

    बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (MD & CEO) संजीव चड्ढा हैं।

  • बैंक ऑफ बड़ौदा का सबसे बड़ा अधिकारी कौन है?

    निदेशक मंडल के अध्यक्ष बैंक ऑफ बड़ौदा के सर्वोच्च पद के अधिकारी हैं। उन्हें भारत सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है और वह बैंक के निदेशक मंडल के प्रमुख के रूप में कार्य करता है, जो इस बैंक के प्रबंधन की देखरेख और रणनीतिक निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार होता है। वर्तमान बैंक ऑफ बड़ौदा के अध्यक्ष हसमुख अधिया हैं।


Conclusion

अंत में, बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) का मालिक भारत सरकार है। BOB एक अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग और वित्तीय सेवा कंपनी है जिसका मुख्यालय वडोदरा, गुजरात में है।

संपत्ति, जमा, लाभ, शाखाओं, ग्राहकों और कर्मचारियों के मामले में भारतीय स्टेट बैंक के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा भारत का दूसरा सबसे बड़ा बैंक है।

देश और विदेश में शाखाओं और एटीएम के विशाल नेटवर्क के माध्यम से बैंक ऑफ बड़ौदा ग्राहकों को व्यक्तिगत बैंकिंग, कॉर्पोरेट बैंकिंग, अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग और ग्रामीण बैंकिंग सहित उत्पादों और सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है।

Related posts –

उम्मीद है आपको यह जानकारी (बैंक ऑफ बड़ौदा का मालिक कौन है) पसंद आई होगी। इससे जुड़े अपने सवाल या सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर साझा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *