🏦भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है? (RBI)

भारत का केंद्रीय बैंक RBI (भारतीय रिजर्व बैंक) है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) देश का केंद्रीय बैंक है और भारत की वित्तीय प्रणाली में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अप्रैल 1935 में स्थापित, यह देश की मुद्रा, क्रेडिट प्रणाली और मौद्रिक नीति के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है। आरबीआई ब्याज दरों को विनियमित करके, मुद्रास्फीति को नियंत्रित करके और आर्थिक विकास को बढ़ावा देकर बैंकिंग क्षेत्र को नियंत्रित करता है। यह सरकार के बैंकर के रूप में कार्य करता है और भारत सरकार द्वारा जारी ऋण उपकरणों का प्रबंधन करता है।

भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है आरबीआई भूमिका बैंकिंग प्रणाली स्थापना किसने की थी स्थापना कब हुई राष्ट्रीयकरण कब हुआ
भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है?

RBI – भारतीय रिजर्व बैंक भारत का केंद्रीय बैंक

HeadquartersFort, Mumbai, Maharashtra, India
Established1 April 1935
GovernorShaktikanta Das, IAS (Retd.)
Central bank ofIndia
CurrencyIndian rupee (₹)
INR (ISO 4217)
Reserves$566.94 billion
Bank rate6.75%
Interest on reserves3.35% (market-determined)
Websiterbi.org.in
Sourcewikipedia
भारत का केंद्रीय बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) देश का केंद्रीय बैंकिंग और मौद्रिक प्राधिकरण है। यह 1 अप्रैल, 1935 को भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 के प्रावधानों के तहत स्थापित किया गया था। RBI मौद्रिक नीति के प्रबंधन और भारत में वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

RBI के प्राथमिक कार्यों में से एक भारत में कार्यरत बैंकों और वित्तीय संस्थानों को विनियमित और पर्यवेक्षण करना है।

केंद्रीय बैंक विदेशी मुद्रा प्रबंधन से संबंधित नीतियां बनाता है और देश के भीतर भुगतान प्रणालियों की निगरानी करता है।

इसके अतिरिक्त, यह विभिन्न योजनाओं के माध्यम से अपने वित्त का प्रबंधन करके केंद्र और राज्य सरकारों के लिए एक बैंकर के रूप में कार्य करता है।

वर्षों से, रिजर्व बैंक ने भारत की अर्थव्यवस्था को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने जनधन योजना और आधार-सक्षम भुगतान प्रणाली (AePS) जैसी वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए कई पहलें शुरू की हैं।

भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है – भारतीय रिजर्व बैंक

इतिहास: 1935 में स्थापित

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत का केंद्रीय बैंक है, जो देश की मौद्रिक नीतियों को विनियमित करने और इसकी बैंकिंग प्रणाली की देखरेख के लिए जिम्मेदार है। 1935 में स्थापित, ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता के बाद 1949 में इसका राष्ट्रीयकरण किया गया था। रिजर्व बैंक ने पिछली शताब्दी में भारत की अर्थव्यवस्था को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

प्रारंभ में, RBI को एक निजी क्षेत्र की संस्था के रूप में कार्य करने के लिए बनाया गया था जो वाणिज्यिक बैंकों के लिए मुद्रा और ऋण का प्रबंधन करती थी।

हालांकि, द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बढ़ती मुद्रास्फीति और वित्तीय अस्थिरता के साथ, सरकार ने मौद्रिक नीति पर अधिक नियंत्रण की मांग की। 1949 में, भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम के तहत RBI का पूर्ण रूप से राष्ट्रीयकरण कर दिया गया था।

तब से, रिजर्व बैंक ने बैंकों की निगरानी और विदेशी मुद्रा बाजारों को विनियमित करने के लिए मुद्रा प्रबंधन से परे अपने दायरे का विस्तार किया है।

यह मुद्रास्फीति की दरों को नियंत्रित करके और ब्याज दरों के प्रबंधन द्वारा मूल्य स्थिरता बनाए रखने के लिए भी जिम्मेदार है।

संरचना: आरबीआई का शासन

भारतीय रिजर्व बैंक भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है
RBI, भारतीय रिजर्व बैंक भारत का केंद्रीय बैंक है.

आरबीआई संरचना में निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार विभिन्न विभाग, समितियां और बोर्ड शामिल हैं।

केंद्रीय निदेशक मंडल भारतीय रिजर्व बैंक की मुख्य समिति है – भारत का केंद्रीय बैंक। भारत सरकार चार साल के कार्यकाल के लिए निदेशकों की नियुक्ति करती है।

आरबीआई संरचना का एक महत्वपूर्ण पहलू इसका शासन ढांचा है। गवर्नर बैंक के प्रबंधन का प्रमुख होता है और उसके प्रवक्ता के रूप में कार्य करता है; हालाँकि, निर्णय केंद्रीय निदेशक मंडल के रूप में जानी जाने वाली समिति द्वारा किए जाते हैं।

इसमें सरकार द्वारा नियुक्त आरबीआई के अधिकारी और विभिन्न क्षेत्रों जैसे कृषि, उद्योग, वित्त और ट्रेड यूनियनों के प्रतिनिधि शामिल हैं।

LevelWhoHeadcountIncumbent
1Central Board of DirectorsMultipleShaktikanta Das
T Rabi Shankar
Mahesh Kumar Jain
Michael Patra
M. Rajeshwar Rao
Dilip Shanghvi
Revathy Iyer
Sachin Chaturvedi
Natarajan Chandrasekaran
Satish Kashinath Marathe
Swaminathan Gurumurthy
Debasish Panda
Tarun Bajaj
2Governor1Shaktikanta Das
3Deputy Governors4T Rabi Shankar, MK Jain, MD Patra, and MR Rao.
4Executive DirectorsMultiple
5Principle Chief General ManagersMultiple
6Chief General ManagersMultiple
7General ManagersMultiple
8Deputy General ManagersMultiple
9Assistant General ManagersMultiple
10ManagersMultiple
11Assistant ManagersMultiple
12Support StaffMultiple
भारत का केंद्रीय बैंक, source: wikipedia

भूमिकाएं और जिम्मेदारियां: मौद्रिक नीतियां

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत का केंद्रीय बैंक है, जो मौद्रिक नीति ढांचे के नियमन और पर्यवेक्षण के लिए जिम्मेदार है।

आरबीआई की मौद्रिक नीति का उद्देश्य आर्थिक विकास को बढ़ावा देते हुए मूल्य स्थिरता बनाए रखना है। इसमें ब्याज दरों, मुद्रा आपूर्ति और विदेशी मुद्रा भंडार जैसे विभिन्न साधनों का प्रबंधन शामिल है।

मौद्रिक नीतियों को निर्धारित करने में RBI की सबसे महत्वपूर्ण भूमिकाओं में से एक मुद्रास्फीति को नियंत्रित करना है। मुद्रास्फीति तब होती है जब कीमतों में अत्यधिक वृद्धि होती है जिससे क्रय शक्ति में गिरावट आती है।

RBI विभिन्न उपायों का उपयोग करता है जैसे कि क्रेडिट विस्तार को नियंत्रित करना, ब्याज दरों को विनियमित करना और तरलता की निगरानी करना ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मुद्रास्फीति नियंत्रण में रहे।

इसके अतिरिक्त, आरबीआई प्रणालीगत जोखिमों की निगरानी करके वित्तीय स्थिरता बनाए रखने पर भी ध्यान केंद्रित करता है जो समग्र वित्तीय प्रणाली को प्रभावित कर सकता है।

आरबीआई की मौद्रिक नीतियों के दायरे में आने वाली एक और महत्वपूर्ण जिम्मेदारी भारत में बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को विनियमित करना है।

आरबीआई की अंतर्राष्ट्रीय भूमिका, और वैश्विक बैंकिंग प्रणाली

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की वैश्विक बैंकिंग प्रणाली में एक अंतर्राष्ट्रीय भूमिका है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के सदस्य के रूप में, RBI वैश्विक वित्तीय स्थिरता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

RBI विभिन्न चैनलों जैसे कि क्रेडिट पत्र, बैंक गारंटी और इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर के माध्यम से निर्यात और आयात के लिए भुगतान की सुविधा देकर अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

केंद्रीय बैंक उन भारतीय बैंकों की भी देखरेख करता है जिनका संचालन राष्ट्रीय सीमाओं से परे है। इसमें विवेकपूर्ण मानदंडों के अनुपालन की निगरानी करना, पर्याप्त जोखिम प्रबंधन प्रथाओं को सुनिश्चित करना और वित्तीय स्थिरता बनाए रखना शामिल है।

इसके अलावा, RBI ने करेंसी स्वैप, नियामक सामंजस्य और वित्तीय स्थिरता जैसे मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने के लिए दुनिया भर के अन्य केंद्रीय बैंकों के साथ कई द्विपक्षीय समझौते किए हैं।

भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है सम्बंधित सवाल जवाब (FAQS)

✔ भारत का केंद्रीय बैंक कौन सा है?

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत का केंद्रीय बैंक है। इसकी स्थापना 1935 में हुई थी। RBI मौद्रिक नीति बनाने और लागू करने, देश की विदेशी मुद्रा और स्वर्ण भंडार का प्रबंधन करने, बैंक नोट जारी करने, बैंकों और वित्तीय संस्थानों को विनियमित करने और सरकार को बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।

✔ भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना किसने की थी?

भारतीय रिजर्व बैंक के संस्थापक कौन थे – भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की स्थापना एक निजी संस्था के रूप में की गई थी, जिसमें निजी शेयरधारकों का बहुमत था। हालाँकि, 1949 में, इसका राष्ट्रीयकरण कर दिया गया था और अब यह पूरी तरह से भारत सरकार के स्वामित्व में है।

✔ भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना कब हुई?

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की स्थापना 1 अप्रैल 1935 को भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1934 के तहत की गई थी।

✔ आरबीआई का राष्ट्रीयकरण कब हुआ था?

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) का राष्ट्रीयकरण 1949 में किया गया था। यह भारतीय रिज़र्व बैंक (सार्वजनिक स्वामित्व में स्थानांतरण) अधिनियम, 1948 के पारित होने के माध्यम से किया गया था। इस अधिनियम ने RBI को भारत सरकार के स्वामित्व वाली एक सार्वजनिक लिमिटेड कंपनी बना दिया। इसका मतलब यह था कि बैंक के सभी शेयर सरकार को हस्तांतरित कर दिए गए थे और यह अब भारत का केंद्रीय बैंक है।

✔ भारतीय रिजर्व बैंक कहां है?

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) का मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है। आरबीआई का मुख्य भवन दक्षिण मुंबई में मिंट रोड पर स्थित है। इस भवन में गवर्नर का कार्यालय और साथ ही कई अन्य विभाग हैं जो वित्तीय क्षेत्र के विनियमन और पर्यवेक्षण के लिए जिम्मेदार हैं। बैंक के भारत भर में स्थित कई क्षेत्रीय कार्यालय भी हैं, जो स्थानीय मौद्रिक मुद्दों को संभालने के लिए जिम्मेदार हैं।

✔ देश में कितने केंद्रीय बैंक होते हैं?

भारत में केवल एक केंद्रीय बैंक RBI है। RBI देश की मौद्रिक नीति और वित्तीय स्थिरता की देखरेख के लिए जिम्मेदार है। यह वाणिज्यिक बैंकों, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों और अन्य वित्तीय संस्थानों के लिए एक नियामक के रूप में भी कार्य करता है।

✔ भारत का पहला बैंक कौन सा है?

भारत का पहला बैंक बैंक ऑफ हिंदोस्तान था, जिसे 1770 में स्थापित किया गया था और 1832 तक संचालित किया गया था। इसकी स्थापना अलेक्जेंडर एंड कंपनी द्वारा कलकत्ता में एक संयुक्त स्टॉक बैंक के रूप में की गई थी। बैंक की दिल्ली, बॉम्बे (अब मुंबई), मद्रास (अब चेन्नई) और लखनऊ सहित विभिन्न शहरों में शाखाएँ थीं।

भारत में स्थापित होने वाला दूसरा बैंक जनरल बैंक ऑफ इंडिया था, जिसने 1786 में अपने दरवाजे खोले। यह भी एक संयुक्त स्टॉक बैंक था, लेकिन कुप्रबंधन और धोखाधड़ी के कारण खुलने के कुछ ही समय बाद यह विफल हो गया।

भारत में तीसरा और सबसे पुराना जीवित बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) है। इसे 1806 में बैंक ऑफ कलकत्ता के रूप में स्थापित किया गया था, जिससे यह भारत का पहला आधुनिक बैंकिंग संस्थान बन गया। SBI अब दुनिया के सबसे बड़े बैंकों में से एक है जिसकी पूरे भारत में 22,000 से अधिक शाखाओं के साथ-साथ दुनिया भर के 36 देशों में अंतर्राष्ट्रीय शाखाएँ हैं।

निष्कर्ष – भारत का केंद्रीय बैंक

अंत में, भारतीय रिजर्व बैंक भारत की वित्तीय प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो अर्थव्यवस्था के लिए आवश्यक निरीक्षण और विनियमन प्रदान करता है। भारत को अधिक आधुनिक, खुला और समृद्ध राष्ट्र बनने में मदद करने में RBI का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

यह वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने और विशेष रूप से कम आय वाली आबादी के बीच बैंकिंग सेवाओं और ऋण तक पहुंच बढ़ाने में भी सबसे आगे रहा है।

साथ ही RBI रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया भारत की अर्थव्यवस्था की स्थिरता और विकास को सुनिश्चित करने के लिए एक नियामक और नीति निर्माता के रूप में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहेगा।


Related articles:-

Instant loan apps:

Personal Loans:

Calculators:

8 Comments

  1. मुझे तत्काल पैसे की जरूरत है कर्म चारी यौ तनख़ा देनी है कृपया मदत कीजिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *